राणा जी की कलम से

बस दिल से

48 Posts

83 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 15096 postid : 1148816

हरियाणा का काला दिन

Posted On 29 Mar, 2016 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

दही के चक्कर में कपास खा बैठे
वोट लेने शेर की खाल में शियार आ बैठे
इटली माफिया से बचाने गए थे देश को
शिखंडी को कृष्ण समझ द्रोपदी थमा बैठे
……………….
56″ की नपाई अपने दिल से करवा बैठे
लगने लगा है नपुंशक को गले लगा बैठे
जिसे जाटों के खिलाफ दी थी बागडोर
कायर उन्ही जाटों की गोदी में जा बैठे
……………….
राजनीति में पूरा प्रदेश जलवा बैठे
कुछ वोटों के चलते असली वोट भुला बैठे
नहीं बस की राजनीति तो सन्यास ले लो
हर मुद्दे में क्यों दुसरे पर इल्जाम लगा बैठे
……………….
गुंडे लाठी के दम पे अपनी बात मनवा बैठे
कातिल अपने तलवों पर तुम्हे झुका बैठे
कल सोचा था नहीं लिखूंगा इस मुद्दे पे
बस दर्द में कलम को कागज़ पे चला बैठे
……………….
अवधेश राणा



Tags:                     

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

3 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Jitendra Mathur के द्वारा
April 5, 2016

आपका दर्द हर वह शख़्स महसूस कर सकता है जिसने इस आंदोलन के नाम पर हुए दंगे और गुंडागर्दी को भोगा है । अब गुंडों और जघन्य अपराध करने वालों को दंड के स्थान पर आरक्षण का पुरस्कार दिया जा रहा है । क्या संदेश गया है सारे देश में इससे ? यही न कि शरीफ़ मत बनो, गुंडागर्दी करो और सब कुछ पा लो, वह सब भी पा लो जिसके तुम हक़दार ही नहीं हो ?

Jitendra Mathur के द्वारा
April 5, 2016

आपका दर्द हर वह शख़्स महसूस कर सकता है जिसने इस आंदोलन के नाम पर हुए दंगे और गुंडागर्दी को भोगा है । अब गुंडों और जघन्य अपराध करने वालों को दंड के स्थान पर आरक्षण का पुरस्कार दिया जा रहा है । क्या संदेश गया है सारे देश में इससे ? यही न कि शरीफ़ मत बनो, गुंडागर्दी करो और सब कुछ पा लो, वह सब भी पा लो जिसके तुम हक़दार ही नहीं हो ।

pkdubey के द्वारा
March 30, 2016

आदरणीय ,बहुत कड़क लेख ,अब समय आ गया है ,हम स्टार्ट अप की दुनिया में उतरें ,अपने लोगों को नौकरी दे ,नौकरी करना नहीं ,नौकरी करवाना सीखे , क्यूंकि देश वही चलाएंगे ,जिनके पास योगयता है | हम सरकारी के इन्तजार में अपना अमूल्य समय न खोए |


topic of the week



latest from jagran